India

By Ajaz Khan
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2020-08-07

कोरोना के संक्रमण से बचना है तो अपना इम्युनिटी बढ़ाये

आज पूरे विश्व को कोरोना अपनी चपेट में ले रखा है, अब तक इस वायरस को खत्म करने के लिए कोई दवाई बाज़ार में उपलब्ध नही है, तो सवाल उठता है कि इस से बचने के उपाय क्या है, और ये इम्युनिटी क्या होती है?, चलिए हम आपको बताते हैं, "इम्युनिटी" यानी शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता। कोरोना के दौर में यह शब्द देश और दुनिया में सबसे ज्यादा चर्चा में है। इसके पीछे बड़ी वजह है, क्योंकि कमजोर इम्युनिटी वाले लोग कोरोना की चपेट में सबसे ज्यादा आसानी से आ रहे हैं। उन्हें जान का भी खतरा है। ऐसे में शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने के लिए विशेष ध्यान रखने की जरूरत है।

हालांकि इम्युनिटी कुछ दिन या हफ्ते में नहीं बढ़ती है। इसके लिए आपको रोजाना की लाइफ-स्टाइल और खान-पान में कई बदलाव करने पड़ेंगे। बच्चों, बुजुर्गों और डायबिटीज, हार्ट डिसीज के मरीजों का इम्युन सिस्टम ज्यादा कमजोर होता है। तो आइए जानते हैं कि कौन से खाने-पीने की चीजें और एक्टिविटीज शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्युनिटी बढ़ाने का काम करते हैं।

रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूरी है, धूप में बैठें, माॅर्निंग वॉक करें

कई अस्पतालों के डॉक्टर्स के मुताबिक इम्युनिटी बढ़ाने के लिए रोजाना की जिंदगी को संयमित बनाना होगा। सुबह सबसे पहले मॉर्निंग वॉक या योग करें। फिर नाश्ता। कुछ देर धूप में बैठें, इस दौरान हाथ-पैर खुले होने चाहिए। 

डॉक्टर के मुताबिक उचित नींद भी बेहद जरूरी है, इससे भी इम्युनिटी बूस्ट होती है। सबसे अहम है सुबह के वक्त जल्दी उठना। जल्दी उठने का मतलब है गर्मी में सुबह 5 से 6 बजे के बीच और सर्दी में 6 से 7 बजे के बीच बिस्तर छोड़ देना। पर जल्दी उठने का यह कतई मतलब नहीं है कि आपको आधी-अधूरी नींद लेनी है। 

रोजाना कम से कम 7-8 घंटे की नींद जरूरी है। कम नींद से शरीर में कॉर्टिसोल नामक हॉर्मोन के लेवल में बढ़ोतरी होती है। यह हॉर्मोन न केवल तनाव बढ़ाता है, बल्कि हमारे इम्युनिटी सिस्टम को भी कमजोर करता है।

दो मंत्र- रेस्पिरेटरी एटिकेट्स, पर्सनल हाइजीन

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA ) के प्रेसिडेंट डॉ. राजन शर्मा कहते हैं कि कोविड एक ड्रॉपलेट्स बेस्ड बीमारी है, इसलिए साफ-सफाई सबसे जरूरी चीज है। इसके लिए दो मंत्र हैं- रेस्पिरेटरी एटिकेट्स और पर्सनल हाइजीन। रेस्पिरेटरी एटिकेट्स का मतलब है कि छींकते, खांसते समय अपने मुंह को ढकें, मास्क अनिवार्य रूप से पहनें। हाइजीन का मतलब खुद को स्वस्थ रहने का तरीका। विटामिन डी से भी इम्युनिटी सिस्टम मजबूत बनता है

मुंबई के स्वस्थ अस्पताल की एक डॉक्टर का मानना है कि धूप से मिलने वाला विटामिन-डी कोरोना से लड़ने में मददगार है, क्योंकि यह टी-सेल के निर्माण में सहायता करता है। यही टी-सेल इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत बनाने में बेहद मददगार होती है, जो कोरोना वायरस से लड़ने में फ्रंटलाइन वॉरियर का काम करती है।

गुनगुने पानी से भी बेहतर कर सकते हैं इम्युनिटी

आयुर्वेद चिकित्सक और लेखक डॉक्टर अबरार मुल्तानी के अनुसार ब्रेकफास्ट और गुनगुना पानी भी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बहुत कारगर है। इससे पाचन और मेटाबॉलिज्म सही रहता है। इसके अलावा फेफड़ा तथा गला भी स्वस्थ रहता है। रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मेटाबॉलिज्म का महत्व होता है। हमारा मेटाबॉलिज्म जितना अच्छा होगा, हमारी रोग-प्रतिरोधक क्षमता भी उतनी ही बेहतर होगी। 

आयुष मंत्रालय के सुझावः योग-प्राणायाम कर बढ़ाए इम्युनिटी 

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने कुछ टिप्स शेयर किए हैं। इसके अनुसार नियमित रूप से आप योग, प्राणायाम करें। खाने में ज्यादा तेल-मसाले से बचें।

रिसर्च के मुताबिक- विटामिन डी से बढ़ती है इम्युनिटी

कुछ रिसर्च में पता चला है कि बेहतर इम्युनिटी के लिए विटामिन डी बेहद जरूरी है। ब्रिटेन के क्वीन एलिजाबेथ अस्पताल के डॉक्टर पीटर क्रिश्चिचन के नेतृत्व में 20 यूरोपियन देशों में हुई एक रिसर्च में पाया गया है कि कोरोना से जिन लोगों की मौत हुई है, उनके ब्लड में विटामिन डी की मात्रा बहुत कम थी।

लुसियाना और टेक्सस के रिसर्चर्स ने एक अस्पताल में भर्ती कोरोना के 19 मरीजों पर की गई रिसर्च में पाया है कि इनमें से 11 में विटामिन डी की भारी कमी थी।

इंडोनेशिया में 780 कोरोना पॉजिटिव मरीजों के हेल्थ डॉक्युमेंट्स की जांच गई, जिसमें पाया गया कि इनमें से जिन मरीजों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत हुई, सभी में विटामिन डी का स्तर सामान्य से बहुत कम था। ऐसे में उम्मीद हैं आप भी कोरोना से बचने के लिए उपर बताए गए उपायों का पालन करे

© All Rights Reserved 2020 | Mumbai Breaking News Live