India

By Latif Sheikh
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2022-04-02

मध्य रेल ने टिकट चेकिंग में सर्वाधिक राजस्व दर्जकर इतिहास रचा

मुम्बई (लतीफ शेख) सभी वास्तविक रेल यात्रियों के लिए आरामदायक यात्रा और बेहतर सेवाएं सुनिश्चित करने के लिए, मध्य रेल टिकट रहित और अनियमित यात्रा को रोकने के लिए अपने सभी मंडलों में उपनगरीय, मेल/ एक्सप्रेस,पैसेंजर ट्रेनों ,स्पेशल ट्रेनों में सघन टिकट चेकिंग किया है। कोविड महामारी के बावजूद, मध्य रेल की अत्यधिक प्रेरित टिकट चेकिंग टीम ने 35.36 लाख मामले पकड़े और वित्तीय वर्ष 2021-22 के दौरान 214.14 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूल किया है,जो कि अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है।

वित्त वर्ष 2021-22 में 35.36 लाख मामलों से 214.14 करोड़ रू का जुर्माना सभी जोनों में सर्वाधिक है।

मध्य रेल का रिकॉर्ड राजस्व

रु. 214.14 करोड़ भारतीय रेल के इतिहास में जोनल रेलवे पर टिकट चेकिंग से अब तक का सबसे अधिक राजस्व है। भारतीय रेल पर पिछला उच्चतम राजस्व 2019-20 में रू 207 करोड़ है। मध्य रेल ने मामलों (कैसेस) में भी रिकॉर्ड बनाया है यानी वर्ष 2021-2022 में भारतीय रेल में 35.36 लाख मामले सबसे अधिक हैं।

मध्य रेल ने वित्तीय वर्ष के दौरान यानी अप्रैल 2021 - मार्च 2022 के दौरान, 214.14 करोड़ रुपये का टिकट जाँच राजस्व अर्जित किया है। अप्रैल 2020- मार्च 2021 के दौरान 28.28 करोड़ रुपये के मुकाबले 657.21% की वृद्धि दर्शाता है। इसी तरह मामलों के संदर्भ में, अप्रैल 2021- मार्च 2022 के दौरान 35.36 लाख मामले पकड़े, जबकि अप्रैल 2020 से मार्च 2021 के दौरान 6.07 लाख मामले पकड़े थे।

श्री अनिल कुमार लाहोटी, महाप्रबंधक, मध्य रेल ने कहा, “सीमित ट्रेन सेवाओं के बावजूद मध्य रेल द्वारा टिकट जांच के प्रदर्शन में ये मील के पत्थर हासिल किए गए, क्योंकि लॉकडाउन के बाद उपनगरीय, मेल/एक्सप्रेस, यात्री सेवाओं का परिचालन चरणबद्ध तरीके से कोविड प्रतिबंधों के साथ शुरू किया गया था। सघन टिकट चेकिंग आरामदायक यात्रा सुनिश्चित करती है और वास्तविक यात्रियों के लिए बेहतर सुविधाएं प्रदान करती है।

मध्य रेल की टिकट चेकिंग टीम ने टिकट रहित यात्रियों को रोकने के लिए बहुत प्रयास किए, टिकट चेकिंग स्टाफ में से 6 ने वित्तीय वर्ष 2021-2022 के दौरान एक करोड़ से अधिक का राजस्व एकत्र करके उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है, जो सूची में सबसे ऊपर है श्री मोहम्मद सम्स, टीटीआई, मुंबई मंडल ने 15840 प्रकरणों से 1.25 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूला। , श्री जे. जे. दर्बे, प्रधान टिकट परीक्षक, नागपुर मंडल रु. 13,958 मामलों से 1.06 करोड़, श्री अभिषेक सिन्हा, टी.टी.आई., रु. 13,494 मामलों से 1.04 करोड़, श्री धर्मेंद्र कुमार, टीटीआई, मुख्यालय, मुंबई रु 13,273 मामलों से 1.04 करोड़, श्री के.के.पटेल, टीटीई, भुसावल मंडल, 14,078 मामलों से रू1.03 करोड़, श्री सुनील नैनानी, टीटीआई, मुंबई मंडल, 13,797 मामलों से 1.02 करोड़ वसूल किएl इनके अलावा, 12 टिकट चेकिंग स्टाफ हैं यानी भुसावल मंडल से 6, नागपुर से एक, मुंबई मंडल से एक, मुख्यालय से 4 ने वित्त वर्ष 2021-2022 के दौरान 75 लाख रुपये से अधिक जुर्माना वसूल किया है।

मध्य रेल यात्रियों से अपील करता है कि वे असुविधा से बचने के लिए उचित और वैध रेलवे टिकट से सम्मान के साथ यात्रा करें और कोविड-19 के लिए अनिवार्य सभी मानदंडों का पालन करें।

© All Rights Reserved 2022 | Mumbai Breaking News Live