Politics

By Ajaz Khan
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2020-08-06

प्रकाश आंबेडकर ने कहा-10 अगस्त तक हटे पाबंदी, नहीं तो किया जाएगा आंदोलन

पूणे। वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) के प्रमुख प्रकाश आंबेडकर ने पुणे में कहा कि महाराष्ट्र सरकार को राज्य में कोरोना वायरस के चलते लागू लॉकडाउन को हटाने पर 10 अगस्त तक निर्णय करना चाहिए। साथ ही उन्होंने सरकार को यह चेतावनी भी दी कि ऐसा नहीं होने पर एक विरोध प्रदर्शन शुरू किया जाएगा।

आपको बता दे प्रकाश आंबेडकर ने आरोप लगाया कि शिवसेना की अगुवाई वाली महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार ने दिखाया है कि वह महामारी से निपटने में पूरी तरह अक्षम है। महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में बढ़ते हुए कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए लॉकडाउन को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है, प्रकाश आंबेडकर ने पुणे में कहा, "मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को यह बताना चाहिए कि राज्य में पाबंदियां क्यों लगायी गई हैं। लोग आर्थिक सुस्ती के कारण पहले से प्रभावित हैं। इसलिए, सरकार को लोगों को अपना व्यवसाय और गतिविधियों को शुरू करने देना चाहिए।" उन्होंने कहा, "यदि सरकार 10 अगस्त तक अनलॉक के बारे में फैसला नहीं करती है, तो हम कानून तोड़कर इसका विरोध प्रदर्शन करेंगे।"

2019 की तुलना में कम हुईं मौतें

प्रकाश अम्बेडकर ने दावा करते हुए कहा की, "सरकार ने महामारी के दौरान हॉटस्पॉट (संक्रमण से अधिक प्रभावित क्षेत्र) घोषित किए। हालांकि आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि 2020 में कोविड-19 के संक्रमण सहित होने वाली मौतों की संख्या 2019 में होने वाली मौतों की तुलना में कम थी, जब कोई महामारी नहीं थी।"

उद्धव को राज्य का नेता बनना चाहिए

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बारे में पूछे गए एक सवाल पर प्रकाश आंबेडकर ने कहा, "एक जाति या धर्म का नेता बनना संभव है। लेकिन उद्धव ठाकरे को राज्य का नेता बनना चाहिए।" उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों को तय करना चाहिए कि वे अंतिम वर्ष की परीक्षाएं आयोजित करना चाहते हैं या नहीं। हालांकि पूरे देश मे सबसे अधिक कोरोना के मामले महाराष्ट्र में है, साथ ही कोरोना से सबसे अधिक मौते भी महाराष्ट्र में ही हुई है, ऐसे में सरकार पर इस तरह का दवाव बनाना कितना उचित है, ये समझ से परे है

© All Rights Reserved 2020 | Mumbai Breaking News Live