Politics

Desk Report
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2020-11-08

बिहार चुनाव के परिणाम आने में हो सकती है देरी, जानिए क्यों?

पटना | बिहार विधानसभा चुनाव के लिए कल यानी 7 नवंबर को तीसरे चरण का मतदान खत्म होते ही मतदान पूरा हो चुका है। अब सब की निगाहें दस नवंबर पर है।क्योंकि उसी दिन पता चलेगा कि क्या नीतीश कुमार फिर से बिहार के मुख्यमंत्री बनेंगे या तेजस्वी यादव बिहार पर राज करेंगे। जानकारी के मुताबिक कोरोना महामारी और इस से जुड़े प्रोटोकाल के कारण विधानसभा सीटों के परिणाम आने में देरी हो सकती है। आपको बता दें चुनाव आयोग के दिशा-निर्देश के अनुसार मतगणना हॉल के अंदर अधिकतम सात मतगणना टेबल ही लगाने की अनुमति होगी। इस प्रकार प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए 3 से 4 हॉल की जरूरत होगी। 

आयोग के अनुसार मतगणना टेबुल पर कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट के केयरिंग केस को लाने के पूर्व सेनेटाइज किया जाएगा। कंट्रोल यूनिट और वीवीपैट के डी सीलिंग और चुनाव परिणाम को प्रदर्शित करने के लिए हर टेबल पर एक कर्मी प्रतिनियुक्त होंगे। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के मुताबिक बिहार विधानसभा चुनाव का परिणाम इस बार आने में थोड़ी देरी होगी। कोरोना काल में हो रहे चुनाव को लेकर बूथों की संख्या में 45 फीसदी की बढ़ोतरी के कारण सभी बूथों के वोटों की गिनती में थोड़ा अधिक समय लग सकता है। बताया जा रहा कि चुनाव आयोग ने सभी स्ट्रांग रूम की सख्त सुरक्षा की व्यवस्था की है। आयोग के दिशा-निर्देश के अनुसार त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की गयी है। वहां सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, कोई भी उम्मीदवार या दल के प्रतिनिधि इसे देख सकते हैं।

चुनाव परिणाम बड़े पर्दे पर प्रदर्शित किया जाएगा 

आयोग ने निर्देश दिया है कि बड़े पैमाने पर मतगणना एजेंट को जगह उपलब्ध कराने में कठिनाई हो तो ऐसी स्थिति में कंट्रोल यूनिट के माध्यम से प्रदर्शित होने वाले चुनाव परिणामों को बड़े पर्दे पर प्रदर्शित करने की व्यवस्था की जाएगी। ताकि मतगणना एजेंट को असुविधा नहीं हो। 

तीन बार सेनेटाइज किये जाने की होगी व्यव्यस्था

इसके अलावा चुनाव आयोग ने मतगणना केंद्र को मतगणना शुरू होने, मतगणना के दौरान और मतगणना के बाद इंफेक्शन मुक्त किये जाने का भी निर्देश दिया है। 

पोस्टल बैलेट के लिए अलग से होगा इंतेज़ाम

चुनाव आयोग ने पोस्टल बैलेट की गिनती को लेकर अतिरिक्त सहायक निर्वाची पदाधिकारी की आवश्यकता जतायी है। इसके लिए निर्वाची पदाधिकारी/ सहायक निर्वाची पदाधिकारी की देखरेख में अलग हॉल की व्यवस्था करने की स्वीकृति भी दी है। 

मतगणना केंद्रों के सभी प्रवेश द्वार पर होगी सुरक्षाकर्मियों की तैनाती

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह ने बताया कि मतगणना केंद्र सभी जिलों में बनाये गए है। सभी केंद्रों के सभी प्रवेश द्वार पर सुरक्षा बलों की तैनाती की जाएगी। इसके लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी के स्तर से सभी जिलों में निर्देश जारी किए गए हैं। 

तो आप भी इंतेज़ार कीजिये 10 नवंबर के जब विहार विधानसभा चुनाव 2020 के चुनाव का परिणाम आएगा उसके बाद ही पता चलेगा कि कौन होगा विहार का मुख्यमंत्री

© All Rights Reserved 2020 | Mumbai Breaking News Live