Politics

By सरीता चौधरी
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2021-07-27

नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे तेजस्वी यादव

पटना बिहार में जातीय जनगणना के मामले को लेकर घमासान मचा हुआ है. इस क्रम में शुक्रवार को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात करने के लिए पहुंचे. बताया जा रहा है कि दोनों जातीय जनगणना के मामले पर बातचीत कर सकते हैं. सीएम नीतीश से मिलने के लिए तेजस्वी यादव के साथ उनके बड़े भाई और विधायक तेजप्रताप यादव भी साथ गए हैं. इसके अलावा कांग्रेस के नेता अजित शर्मा और लेफ्ट के विधायक भी साथ में हैं. मुख्यमंत्री से मुलाकात करने के संबंध में तेजस्वी यादव ने गुरुवार को ही कहा था कि वो मुख्यमंत्री से मिलने का समय लेंगे और दो महत्वपूर्ण प्रस्ताव जो बिहार के हित में है, उसे वो उनके सामने रखेंगे. उन्होंने कहा था कि अगर मुख्यमंत्री खुद जातीय जनगणना के पक्षधर हैं, तो जैसे कर्नाटक सरकार ने अपने खर्च पर गिनती कराई. वो भी एलान करें कि हम भी जातीय जनगणना अपने अपने खर्च पर करा रहे हैं.

गौरतलब हो कि बिहार में लंबे समय से जातीय जनगणना कराने की मांग उठ रही है. इस बाबत बिहार विधानसभा से दो बार सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास किया जा चुका है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद इस बात के पक्ष में हैं. लेकिन केंद्र सरकार की ओर से जातीय जनगणना को हरी झंडी नहीं मिल पा रही है.

वहीं, दूसरी तरफ जातीय जनगणना के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अब खुलकर सामने आ गई है. बीजेपी एमएलसी संजय पासवान ने जातीय जनगणना को लेकर नया दांव खेल दिया है. उन्होंने कहा कि देश में गरीबी गणना होनी चाहिए, ना की जातीय जनगणना.

शुक्रवार को रिक्शे पर सवार होकर गले में प्लेकार्ड लटकाकर बीजेपी एमएलसी संजय पासवान विधानसभा पहुंचे. उन्होंने अंदर जाने से पहले मीडियाकर्मियों के सवालों का जवाब दिया. उन्होंने कहा कि देश में अब तक कितने गरीब हैं, इसकी संख्या किसी को मालूम नहीं है. ऐसे में जो लोग जातीय जनगणना कराने के बाद समाज को बांटना चाहते हैं, उन्हें समझ लेना चाहिए कि देश में गरीबों की तादाद सबसे ज्यादा है. इसलिए गरीबों की गणना होनी चाहिए.

जिस तरह जातीय जनगणना को लेकर घमासान मचा हुआ है उस से ये साफ लग रहा है कि आने वाले दिनों में इसे लेकर और राजनीतिक हलचल तेज़ होगी

© All Rights Reserved 2021 | Mumbai Breaking News Live