Politics

By Ajaz Khan
Share on FacebookTweetShare on Whatsapp

2020-08-09

राजस्थान में सियासी उठापटक जारी

जयपुर। विधानसभा सत्र नजदीक आते ही राजस्थान भाजपा और कांग्रेस दोनों में हलचल बढ़ गई है। राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रविवार को जैसलमेर पहुंचे। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री यहां कांग्रेस विधायकों से प्रदेश में मौजूदा सियासी हालात और आगामी रणनीति पर चर्चा करेंगे। बता दे 14 अगस्त से राज्य में शुरू हो रहे विधानसभा सत्र के लिए भी रणनीति बनाई जा रही है। कांग्रेस ने एक टीम बनाई है, जो सदन में फ्लोर मैनेजमेंट का जिम्मा संभालेगी।

जैसलमेर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा की 'भाजपा और कांग्रेस छोड़ने वालों के लिए हर घर में गुस्सा है। उम्मीद है, कांग्रेस छोड़ने वाले इस बात को समझकर हमारे पास वापस लौट आएंगे।

भाजपा के नेताओ ने कहा- 14 अगस्त को होगा निर्णायक दिन

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भाजपा 11 अगस्त से अपने विधायकों की जयपुर में बाड़ाबंदी करेगी। इस दिन शाम 4 बजे टोंक रोड स्थित होटल क्राउन प्लाजा में भाजपा विधायक दल की बैठक होगी। इसके बाद सभी विधायक होटल में ही ठहरेंगे।

भाजपा जिन विधायकों को गुजरात भेजी थी, उन सभी विधायको को वापस जयपुर बुलाया जा रहा है। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के आवास पर हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। कटारिया ने कहा कि 14 अगस्त को निर्णायक दिन है। इसमें फैसला होगा कि सरकार रहेगी या नहीं। इस दिन क्या करना है इसके लिए सभी विधायकों के साथ बैठक करके चर्चा कर लेंगे।

वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मुझे लगता है कि भाजपा में जोरदार फूट पड़ गई है। सत्ता में सरकार हमारी है और बाड़ेबंदी भाजपा कर रही है। इससे साफ है कि उनकी साजिश सफल नहीं हो रही। मैंने चुनी हुई सरकार को गिराने के प्रयासों का हमेशा विरोध किया। भाजपा के कैलाश मेघवाल पहले ही कह चुके हैं कि चुनी हुई सरकार को गिराने की परंपरा गलत है। भाजपा के कई विधायक भी ऐसा मानते हैं।

© All Rights Reserved 2020 | Mumbai Breaking News Live